सिविल लाईन पुलिस ने पुलिस विभाग में फर्जी नौकरी का किया खुलासा

सिविल लाईन पुलिस ने पुलिस विभाग में फर्जी नौकरी का किया खुलासा

बिलासपुर – पुलिस विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर फर्जीवाड़ा करने का मामला प्रकाश में आया है। एक व्यक्ति बकायदा फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर पहुंच गया। जिसके बाद पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी।जहा पर मामले से जुड़े एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है। जिसमें आरक्षक भाजपा नेता व निगमकर्मी भी शामिल है। इस पूरे मामले में पुलिस ने चार लोगो को गिरिफ्तार किया है।और नगद रकम और नियुक्ति पत्र व अन्य सामानों को जप्त किया है।पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए बताया की शहर में एक ऐसा गिरोह जो पुलिस विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर मोटी रकम लेता था।

इस मामले का खुलासा तब हुआ जब एक युवक बिलासपुर के पुलिस अधीक्षक कार्यालय में अपनी आमद देने नियुक्ति पत्र लेकर स्थापना कक्ष पहुंचा।स्थापना शाखा प्रभारी ने नियुक्ति पत्र देखकर पूरा मामला समझ लिया और इसकी सूचना थाना सिविल लाइन को दिया।

जहा पर सिविल लाइन पुलिस ने फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर आए आरोपी पीयूष प्रजापति को थाना लाया गया और मामला कायम कर तफ्तीश में जुट गई।आरोपी पियूष प्रजापति से पूछताछ करने पर उसने बताया की भाजपा पार्षद रेणुका नागपुरे, निगम कर्मी भोजराज नायडू,पुलिस विभाग में पदस्थ आरक्षक पंकज शुक्ला,ये तीनों भी इस गिरोह में शामिल है।और इनके द्वारा ही फर्जी नियुक्ति पत्र दिया गया। इस मामले में पुलिस ने आरोपी पियूष प्रजापति पिता भोलाराम 28 साल करगीरोड कोटा ,भोजराज नायडू पिता लक्ष्मण नायडू 58 साल यदुनंदन नगर तिफरा, रेणुका प्रसाद नगपुरे पिता हरीलाल उम्र 49 साल निवासी हेमूनगर तोरवा, पंकज शुक्ला पिता भोलाराम शुक्ला 42 साल पुलिस लाइन बिलासपुर,को गिरिफ्तार कर इनके पास 8लाख रुपए नगद और स्कैनर प्रिंटर, लेबटाब जप्त किया गया है। इस कार्यवाही में थाना प्रभारी सिविल लाइन के साथ उनि धर्मेंद्र वैष्णव,आर सरफराज खान, देवेंद्र दुबे, विकास यादव, मनोज बघेल, राजेश नारंग, बालाजी राव, निलेश राठौर,महेंद्र पटेल सम्मिलित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *